डिजिटल मार्केटिंग क्या है? पूरी जानकारी | WHAT IS DIGITAL MARKETING IN HINDI

डिजिटल मार्केटिंग क्या है

दोस्तो आज इंटरनेट का जमाना है जबकि इंटरनेट इतनी तेजी से हर चीज डिजिटल हो रही रही एक जमाना जब हम रेडियो और टेलीविजन पर ads देखते थे और मार्केट में पोस्टर बैनर से दिवारे सजी रहती थी लेकिन अब ऐसा नही है।

जैसे जैसे इंटरनेट grow कर रहा है पूरा भारत ही नही पूरा विश्व डिजिटल होता जा रहा है ऐसे में जबकि इतना rushऔर इतने सारे लोगो की कम्युनिटी इंटरनेट पर बन रही हैं जोकि बहुत बड़ी मार्किट प्लेस है जो आपर सम्भावनाओ का केंद्र बन गया है मार्केटिंग हो या एडवरटाइजिंग सबके लिए कम समय मे ज्यादा लोगो तक पहुंचने का माध्यम है।

यही वजह है कि दिवालो पर पोस्टर बैनर और ऑफलाइन मार्केटिंग सिकुड़ती जा रही है और इसकी जगह डिजिटल मार्किट बड़ी तेजी से ले रहा जिसको हम डिजिटल मार्केटिंग के नाम से जानते हैं दोस्तो आज हम इसी महत्वपूर्ण टॉपिक पर बात करे कि डिजिटल मार्केटिंग क्या होती है और इसको कैसे करते हैं। तो चलिए जानते हैं डिजिटल मार्केटिंग के बारे में विस्तार से..

डिजिटल मार्केटिंग क्या होती है (what is digital marketing):

डिजिटल मार्केटिंग का सीधा और सरल मतलब है डिजिटल devise(कंप्यूटर मोबाइल फोन लैपटॉप टैबलेट) आदि के द्वारा अधिक से अधिक लोगो तक पहुचने तथा अपने प्रोडक्ट को प्रमोट कर ने की प्रणाली को ही डिजिटल मार्केटिंग कहते है

उदाहरण के तौर पर समझने की कोसिस करते है जैसे कि आज कोई भी व्यक्ति डिजिटल device से अनजान नही है हर आदमी किसी न किसी तरह मोबाईल तो चला ही रहा है इंटरनेट से भी कनेक्ट है जिसमे यूट्यूब और गूगल तो हम सबकी जुबा है और ऐसे हम रोज उसे use भी करते हैं।

बस यही थोड़ा रुक कर समझे जब हम कोई वीडियो या आर्टिकल देख या पढ़ रहे होते हैं तो बीच मे हमे ad देखने को मिलता है यह ad डिजिटल मार्केटिंग का ही हिस्सा है जो हमेशा कंपनिया के प्रोड्क्ट की पहचान कराता रहता है जिसका main perpuse मार्केटिंग करके लोगो मे आपके समान की मार्केटिंग करना होता है।

एक समय था जब कम्पनी अपने प्रोडक्ट की जानकारी मार्किट में पहचान के लिए पोस्टर बैनर रेडियो tv का सहारा लेना पड़ता था हालांकि यह सब traditional मार्केटिंग के अंतर्गत आता है जिसमे काफी समय और पैसे की बर्बादी होती थी लेकिन जब से इंटरनेट की शुरुवात हुई इसने हर काम को आसान बना दिया

आपने गौर किया होगा कि अब दिवालो और बिल्डिंग की टेरिस पर होल्डिंग बैनर कम दिखते हैं जिसकी वजह डिजिटल ग्रोथ है अब सोशलमीडिया का जमाना है पहले इंटरनेट महंगा हुआ करता था किंतु अब जबसे रिलायंस ने जिओ कि सर्विस लांच हुई है भारत मे क्रांतिकारी बदलाव आया बहुत सी संभावनाएं जगी है offline market की जगह डिजिटल मार्किट ने ले ली है डिजिटल मार्केटिंग की वजह से आज कोई भी कंपनी हो या किसी भी वस्तु की मार्केटिंग करना लोगो तक आसानी से पहुँच का साधन बन गया है

यही एक मात्र वजह जो ऑफलाइन मार्केट की जगह लेता जा रहा है और समय की बर्बादी को कम कर रहा है। आज कल हर तरफ इसकी धूम है कंपनियों के लिए तो यह वरदान साबित हो रहा है।

डिजिटल मार्केटर किसे कहते हैं (who is Digital marketer ):

जैसा कि नाम से ही पता चल रहा है कि इसका अर्थ यह है डिजिटल मार्केटिंग को करने वाले व्यक्ति को ही डिज़िटल मार्केटर कहते हैं जिसका काम होता है ऑनलाइन सोशल मीडिया जैसे प्लेटफॉर्मो में अपनी कंपनी के प्रोडक्ट की मार्केटिंग करना और ज्यादा से ज्यादा सेल बढ़ाना गूगल में कंपनी की वेबसाइट को फर्स्ट page में रैंक करवाना

उदाहरण के तौर पर सोसल मीडिया का प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम ,फेसबुक, ट्विटर, पिंटरेस्ट, व्हाट्सएप, तथा यूट्यूब और गूगल में मार्केटर को अपने प्रोडक्ट की जानकारी के लिए अच्छी पोस्ट इमेज वीडियो और लेख लिख कर promotion करना ज्यादा से ज्यादा लोग तक पहुचे इसके लिए रणनीति बनाना

डिजिटल मार्केटिंग के उदाहरण(Example of digital marketing):

उदाहरण की बात करे तो यह हमारे सुबह से शाम तक हमारे इर्द गिर्द मोबाइल कंप्यूटर में popup की आवाज के साथ दिखता और बज कर अपनी ओर बुलाता रहता है सुबह सबेरे जब उठ कर मोबाइल खोलते हैं तो सबसे पहले ही status बार मे मैसेज की पट्टियां दिखती हैं

ये सब कंपनियों के मार्केटिंग प्रमोशनल ईमेल और msg ही होते ह जैसे हमे आमतौर पर किसी रिश्तेदार के ईमेल नही आते ये वोही ईमेल होते हैं कम्पनी के जो प्रोडक्ट के प्रमोशन की जानकारी से भरा रहता है

यूट्यूब वीडियो देखते समय बीच मे adds चलने लगता है गूगल में कोई आर्टिकल पढ़ते समय अक्सर adds आ जाते हैं यह सब मार्केटिंग का ही हिस्सा है जो मार्केटर के द्वारा paid और approval के आधार पर चलाये जाते हैं

डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार (TYPES OF DIGITAL MARKETING):

डिजिटल मार्केटिंग अपार संभावनाओ वाला विषय है जिसको लिखने के लिए शब्द कम पड़ जाएंगे लोग इसका इस्तेमाल विभिन्न प्रकार से करते हैं जिसका सिंपल सा फंडा होता ह लोगो तक पहुचना इंटरनेट बहुत बड़ा डिजिटल प्लेटफॉर्म इसमें आपकी सुविधा अनुसार मार्केटर कार्य कार्य करते हैं अपने costumer को रिझाने के लिए वीडियो आर्टिकल इन्फोग्राफिक्स के रूप में उनमें से कुछ इस प्रकार है…

  • कंटेंट मार्केटिंग
  • सर्च इंजन मार्केटिंग
  • सर्च इंजन ऑप्टोमाइजेसन मार्केटिंग
  • मोबाइल मार्केटिंग
  • एफिलिएट मार्केटिंग
  • वीडियो मार्केटिंग
  • ऑडियो मार्केटिंग
  • ईमेल मार्केटिंग
  • Ppc मार्केटिंग

कंटेंट मार्केटिंग (content marketing):

कंटेंट मार्केटिंग करने का मतलब है आप अपने शब्दों के माध्यम से ब्लॉग आर्टिकल को इस प्रकार लिखे पढ़ने ववाला आपके समान को खरीद ले और आप पर विस्वास करे आपके लेखन से आपकी ऑथोरिटी बढ़ने लगे मतलब आपके लेखन से प्रोडक्ट की मार्केटिंग!

सर्च इंजन मार्केटिंग (search engine marketing):

सर्च इंजन मार्केटिंग को paid मार्केटिंग भी कहते हैं जिसको मार्केटर पैसे दे कर अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग सर्च इंजन में करवाते है जिसे SEM कहते हैं.

सर्च इंजन ऑप्टोमाइजजेसन मार्केटिंग का मतलब भी सिंपल सा है इसके करने की प्रक्रिया सर्च इंजन में कंटेंट को सर्चर के इंटेंट के हिसाब से मार्केटिंग करना मतलब सर्च इंजन में फर्स्ट पेज पर रैंक करके लिए किया जाता है.

मोबाइल मार्केटिंग (mobile marketing):

मोबाइल मार्केटिंग आज ज्यादा तर ऑडियंस मोबाइल पर ही रहती है यहा किसी भी प्रोडक्ट की मार्केटिंग के लिए प्रमोशन करना बहुत सुविधाजनक !

एफिलिएट मार्केटिग (Affiliate marketing):

यह मार्केटिंग बहुत पॉपुलर है सारी कंपनी ईकॉमर्स फॉरमेट का उपयोग कर रही हैं एफिलिएट मार्केटिंग करना मतलब किसी भी कंपनी के प्रोडक्ट का अपनी वेबसाइट में या यूट्यूब चैनल में review करना और सेल करवाना सेल करवाने पर आप प्रोडक्ट में निर्धारित परसेंट से कमीशन earn करते हैं ऐसी को affiliate मार्केटिंग कहते हैं

वीडियो मार्केटिंग(video marketing):

इसके अंतर्गत वीडियो के द्वारा मार्केटिंग आप अपने बिजनेश की प्रमोटिंग वीडियो बना कर लाइव स्ट्रीमिंग कर सकते हो सोशल मीडिया में छोटे छोटे वीडियो क्लिप बना कर प्रोडक्ट की मार्केटिंग करते है

ऑडियो मार्केटिंग सबसे पुराना और टिकाऊ माध्यम रेडियो का जमाना था मार्केटिंग के लिए एक मात्र माध्यम था अब इसकी जगह डिज़िटल माध्यमो ने ले ली है लेकिन एक समय एक मात्र रेडियो ही ऐसा प्लेटफार्म जहाँ मार्केटिंग की डिजिटल सुरुआत हुई

ईमेल मार्केटिंग (Email Marketing):

ईमेल मार्केटिंग ईमेल एक ऐसा इफेक्टिव टूल है डिजिटल मार्केटिंग के लिए जो सोशल मीडिया से पहले मैसेजिंग और चैटिंग के लिए ऐसी टूल का इस्तेमाल किया जाता था इसके उपयोग में आज भी कमी नही आई है आज इसका उपयोग ईमेल स्क्रैप करके लोगो तक newslater और massage के थ्रो प्रोडक्ट की मार्केटिंग किया जाता है.

PPC मार्केटिंग (PPC MARKETING):

Ppc मार्केटिंग का मतलब है pay per क्लिक पब्लिशर को pay per क्लिक पैसे देने पड़ते हैं!

इलेक्ट्रॉनिक बिलबोर्ड मार्केटिंग (Electric billboard marketing):

हम सबने बिल्डिंगों में पोस्टर बैनर देखे हैं लेकिन अब इसकी जगह बिलबोर्ड ने ले ली जिसको हम e पोस्टर भी कहते हैं जिसमे इलेक्ट्रिक डिस्प्ले पर adds चला कर कंपनिया प्रचार करती है

डिजिटल मार्केटिंग क्यों जरूरी है( why Digital marketing Important):

आज कोई भी चीज महंगी ह है तो सबसे ज्यादा वो है समय! पहले थोड़े में काम चल जाता था लोग ज्यादा डिमांडिंग नही हुआ करते थे सारे काम आराम से किये जाते थे तब के दौर में ट्रेडिशनल मार्केटिंग की जाती थी जिसका प्रोसेज धीमा था तब भी लोगो के लिए ठीक था

लेकिन आज किसी के पास समय नही आज इंसान को हर चीज की जल्दी रहती है वो पहले की अपेक्षा ज्यादा needy हो गया है जिसकी वजह है भागदौड़ भरी लाइफ है जिसको आसान करने के लिए डिजिटल मार्केटिंग जैसी तेजी चाहिए क्योंकि ट्रेडिशनल मार्केटिंग में आप बहुत सीमित और ज्यादा समय नही खर्च पाओगे

जबकि डिजिटल प्लेटफार्म में इंटरनेट की भूमिका से क्रांति आयी है इसने हर काम को आसान कर दिया है समय पैसा दौड़धूप से थकान सब की बचत और राहत के लिए जरूरी है की हम डिजिटल मार्केटिंग के महत्व को समझें क्योकि ट्रेडिशनल मार्केटिंग अगर हम करते है

तो ज्यादा पैसे चाहिए जबकि डिजिटल मार्केटिंग छोटे से इन्वेस्टमेंट में आप बहुत कुछ कर सकते हो एक साथ पूरे विश्व मे अपनी बात को आप मिनट में कह सकते हो

जबकि ट्रेडिशनल में ऐसा नही जिसका कारण साफ है हम अगर कोई भी बिजनेस कर रहे हैं तो सक्सेसफुल बनाने के लिए ज्यादा लोगो तक कम समय मे पहुचने का एक मात्र तरीका है इंटरनेट के throw डिजिटल मार्केटिंग हमे एक साथ ज्यादा इन्वेस्ट करने की जरूरत नही लेकिन शुरुआत करके आप इसको बड़े स्तर पर अपना बिजनेश देश ही नही विदेश में भी ला सकते हैं

डिजिटल मार्केटिंग के फायदे(benifits of digital marketing):

अब फायदे उनके गिनाए जाते हैं जिनके कोई नुकसान हो डिजिटल मार्केटिंग एक दो फायदे हो तो बताए लेकिन मैं कुछ बाते बताऊंगा जो आपके लिए जरूरी हैं ये आपको जाननी चाहिए

डिजिटल नाम का मतलब पूरे विश्व के साथ घर बैठे कनेक्ट होना आप दुनिया के किसी भी छोटे बड़े स्थान में हो कोई फर्क नही पड़ता आपका बिजनेसः कितना बड़ा या छोटा है यहा कुछ छोटा बड़ा नही जरूरत आपको अपने प्रोडक्ट सही तरीके से प्रस्तुत करने की और ऑडियंस का intent समझने की.

बिजनेस करना बड़ी बात नही बिजनेस को लोगो तक पहुचना ब्रांडिंग करना और जरूरतों को पूरा करना महत्व पूर्ण है अगर आप बिजनेस करना कहते हो तो ज्यादा पैसे की जरूरत ज्यादा से ज्यादा डिजिटल मार्केटिंग समझने की जरूरत एक बार आपने सारे प्रॉस्पेक्ट को समझ लिया तो आपको कामयाब होने से कोई नही रोक सकता.

क्योंकि डिजिटल मार्किट अपार संभावनाओ से भरा हुआ मार्किट है जहाँ आप करोड़ो लोगो के बीच अपनी बात मिनटों में कर सकते हैं सब ठीक और तरीके से किया तो आप बहुत थोड़े समय मे एक कामयाब बिजनेस की आशा कर सकते हो!

आज का दौर टेक्नोलॉजी का दौर है और हमें टेक्नोलॉजी सीखनी पड़ेगी यानी हमें ऑनलाइन आना पड़ेगा और डिजिटल होना पड़ेगा अगर आप घर बैठे सोचते रहोगे एक्शन नहीं लोगे तो आप कभी भी सफलता नहीं पाओगे और आप पीछे रह जाओगे
तो ऐसे में जरूरी हो जाता है कि हम डिजिटल मार्केटिंग को ज्यादा से ज्यादा जाने और ज्यादा से ज्यादा डिजिटल मार्केटिंग के बारे में पढ़ें समझें और सफलता की ओर अग्रसर है

डिजिटल मार्केटिंग से सम्बंधित जरूरी वर्ड(some Important related words from digital marketing):

डिजिटल मार्केटिंग में आने की सोच रहे हैं बहुत सही कदम लेकिन सोचते रहना सही नही हमे उससे जुड़ी चीजो को जानने की उत्सुकता बनानी पड़ती है जब एक की उत्सुकता बढ़ेगी तोआपका ध्यान भी लगेगा

हम सब जानते हैं कि हमें जब हमें कोई चीज करने से पहले उसको शीखना पड़ता है जऐसे कोई भाषा शीखने से पहले उसके लेटर को जानने से शुरुआत करते हैं फिर बात फिर धीरे उसमे से पढ़ने की प्रैक्टिस करते हैं.

उसी प्रकार डिजिटल मार्केटिंग एक विषय है इसको शीखने से पहले हमें इससे जुड़े शब्दो को जान लेना बेहद जरूरी है जिससे हमको मार्केटिंग को समझने में आसानी होगी तो चलिए नजर डाल लेते हैं कुछ उपयोगी इस्तेमाल होने वाले जरूरी word के बारे में

  • SEO (सर्च इंजन ऑप्टोमाइजजेसन)
  • PPC (pay per क्लिक)
  • CTR(क्लिक थ्रु रेट)
  • स्पॉन्सरशिप
  • बाउंस रेट
  • क्लिक बैट
  • लैंडिंग पेज
  • डोमेन ऑथोरिटी
  • बैकलिंक
  • एलेक्सा रैंक

सर्च इंजन ऑप्टोमाइजजेसन (SEO):

सर्च इंजन में फर्स्ट पेज पर रैंक करने की प्रक्रिया को seo कहा जाता है जिसका उपयोग मार्केटर अपनी वेबसाइड को ग्राहक के intent को समझकर मार्केटिंग करने के लिए seo का प्रयोग किया जाता है यह मार्केटिंग की महत्वपूर्ण कड़ी ह जिसको समझना जरूरी होता है

Ppc (pay per click)

कंपनी के प्रचार के लिए पब्लिशर को जो pay करना पड़ता है per क्लिक! पब्लिशर की देने की प्रक्रिया को pay per क्लिक कहते हैं

CTR(क्लिक थ्रु रेट)

वेबसाइट के ऊपर चल रहे ads में आने वाले विजिटर के द्वारा किये गए क्लिक को क्लिक थ्रो रेट कहते हैं.

स्पॉन्सरशिप (sponsorship)

स्पॉन्सरशिप का मतलब डिजिटल मार्केटिंग के फील्ड में पहले से पापुलर लोगो से अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग करवाना वो लोग बड़े ब्लॉगर या youtuber भी हो सकते हैं.

बाउंस रेट (bounce rate)

बाउंस रेट का मतलब होता है की कोई भी विज़िटर आपके वेबसाइट पर बिना ज्यादा समय दिए वापर क्विट कर देते है उसको बाउंस रेट माना जाता है इसको परसेंट से समझने में आसानी होती हो जितना काम बाउंस रेट रहता है आपकी वेबसाइट का उतना ही सही होत है.

क्लिक बैट (click bait)

यह ब्लैक हैट  seo होता है मतलब गलत तरीके से किया गया मार्केटिंग का हिस्सा है जो कि scammer use करते है

लैंडिंग पेज(landing page)

यह एक विशेष तरह का पेज होता है जिसको वेबसाइट के ओनर अपनी ऑडियंस को प्रमोशन के दौरान सोशल मीडिया में एक लिंक देते हैं और उस पर क्लिक करने पर हम उनके वेबसाइट में redirect हो जाते है

डोमेन अथॉरिटी

डोमेन अथॉरिटी का मतलब होता है कि आपकी वेबसाइट की गूगल में कितनी अहमियत है

एलेक्सा रैंक

गूगल की दुनिया मे आपकी वेबसाइट की रैंकिंग मापने के पैमाना

कंटेन्ट राइटिंग

लेखन एक ऐसी कला है जिसमे आप बिना कुछ कहे अपनी लेखनी से सामने वाले को आपमे पक्ष में कर सकते हो अच्छी तरह आर्टिकल लिख कर अपनी ऑडियंस को खरीदने के लिए कन्वेंस करना.

डिजिटल मार्केटिंग कैसे करे? (How to Do Digital Marketing):

जैसा की हम पोस्ट में जान चुके की डिजिटल मार्केटिंग कितनी महत्वपूर्ण है आज के समय मे बिजनेस करने के लिए और उसकी सक्सेस के लिए सबसे तेज सफल विश्वशनीय माध्यम अगर कोई है तो डिजिटल मार्केटिंग आजके भागदौड़ भरे लाइफस्टाइल में समय बहुत महंगा होता जा रहा है

किसी के पास समय नही लोगो के इसी प्रोब्लव्म को कम करने के लिए अब कंपनियों ने अपने ईकॉमर्स प्रोग्राम शुरू कर दिए हैं जो लोगो को घर बैठे उनकी जरूरतों को पूरा करता है

इससे कंपनी भी अपना प्रॉफिट कमा रही है और ग्राहक भी अपने मन मुताबिक बिना किसी झंझट के अपना काम निकाल रहे इन सबके पीछे डिजिटली सोच का ही कमाल है डिजिटल मार्केटर बनने के लिए आपको कुछ विशेषतौर पर कुछ चीजो को पहले करने की जरूरत है

सबसे पहले आपको यह जान लेना चाहिए कि हम डिजिटल मार्केटिंग क्यों कर रहे हैं और किन के लिए कर रहे हैं जब आपका लक्ष्य क्लियर हो जाएगा मैं इस फील्ड में क्यों हूं और मेरी टारगेट ऑडियंस क्या है तो आपको एक बात मिल जाएगा उसी हिसाब से फिर आपको आगे बढ़ने में आसानी होगी

क्योंकि अगर आपका माइंडसेट क्लियर नहीं है कि मुझे एक्चुअली क्या करना है मैं अगर डिजिटल मार्केटिंग कर रहा हूं तो मैं किस लिए कर रहा हूं मेरी टारगेट ऑडियंस क्या है मैं जो प्रोडक्ट या सर्विस लोगों को दूंगा उसका हानि लाभ क्या है यह सारी चीजें समझना बहुत महत्वपूर्ण है

किसी भी कार्य को करने से पहले यह क्लियर कर लेना बहुत जरूरी हभी आप किसी भी फील्ड में सक्सेस हो सकते है तो सबसे पहले हमें अपना गोल डिसाइड करना चाहिए फिर अगले स्टेप की तरफ बढ़े

सोशल मीडिया मीडिया का सही इस्तेमाल(right use of social media):

आज का दौर सोशल मीडिया का दौर है जो सबसे बड़ी कंम्यूनिटी एक साथ करोड़ों लोगों को एक साथ मिलने का एक बड़ा मार्केट प्लेस है जहाँ करोड़ो लोग हर वक़्त एक्टिव रहते आपको केवल अपनी ऑडियंस की पहचान करना है कि वो किस प्लेटफॉर्मो में ज्यादा एक्टिव रहते हैं

एक बार आप अपनी ऑडियंस को पहचान लेते हो तो फिर आपके लिए आगे आसान हो जाता है इसलिए हमको सोशल मीडिया में एक्टिव होना चाहिए और मुझे नही लगता कि इससे बड़ा कोई जगह है आपके बिजनेस की मार्केटिंग के लिए बस आपको सोशल मीडिया का सही इस्तेमाल करना आना चाहिए

जैसे फेसबुक adds रन करना बढ़िया फोटो इंस्टाग्राम में अपलोड करना ट्विटर में daily बेसिस पर अपडेट करते रहना लिंकडिन में clint ढूंढकर उनसे अपने बिजनेस की बात करना प्रमोशन करना ब्लॉगिंग करके अच्छे तरह से लेख लिख कर के पोस्ट के माध्यम से अपने कस्टमर को इंफ्लूएंस करने की तकनीक आपको डिजिटल मार्केटर बंनने के लिए शीखनी पड़ेगी अगर आती है तो बहुत बढ़िया सोने पे सुहागा!

ब्लॉग वेबसाइट और यूट्यूब चैनल (blog, website & youtube channel):

ब्लॉग वेबसाइट और यूट्यूब वीडियो क्रिएटिंग और कंटेंट राइटिंग की अच्छी जानकारी और जैसे कि आप अपनी ऑडियंस को लेख और वीडियो के माध्यम से अपनी कंपनी की बात को बता और दिखा सकें इसके लिए इम्पॉर्टेन्ट है कि आपको ब्लॉग लिखना ही नही अपितु सही से लिखना आना चाहिए जिससेकि आप की ऑडियंस आपके प्रोडक्ट को खरीदने के लिए मन परिवर्तन कर ले

इसके लिए आपको पहले तो राइटिंग सीखनी पड़ेगी और उसकी प्रैक्टिस करनी पड़ेगी यह जरूरी नहीं कि आपको लिखना आता ही हो आप अगर वीडियो में अच्छे है तो आप वीडियो के भी थ्रो भी अपने प्रोडक्ट का प्रमोशन कर सकते हैं शुरुआत में किसी को कुछ नहीं पता रहता मगर अगर हम जानने की और सीखने की कोशिश करे तो कोई भी skill सीख सकते हैं यूट्यूब वीडियो बनाने के लिए यूट्यूब पर हजारों वीडियो ऐसे पड़े जिनको देखकर हम अच्छे वीडियो और अच्छा कंनटेंट बना सकते हैं

CONCLUSION:

दोस्तों डिजिटल मार्केटिंग एक ऐसी स्किल है जिसे आप इंटरनेट पर नई-नई चीजें ट्राइ करके सीख सकते हैं। इसलिए इंटरनेट से खेलते रहिए और सीखते रहिए।

उम्मीद है कि आपको डिजिटल मार्केटिंग पर हमारी आज की यह पोस्ट उपयोगी लगी होगी। कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेन्ट बॉक्स में जरूर साझा करें..

अपने दोस्तों में लेख शेअर करें मनाचेTalks हिन्दी आपके लिए ऐसी कई महत्त्वपूर्ण जानकारियाँ लेके आ रहा है। हमसे जुड़ने के लिए हमारा फेसबुक पेज मनाचेTalks हिन्दी को लाइक करिए और हमसे व्हाट्स ऐप पे जुड़े रहने के लिए यहाँ क्लिक करे। टेलीग्राम चैनल जॉइन करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *