SEO-फ़्रेंडली ब्लॉग पोस्ट कैसे लिखें? | HOW TO WRITE SEO OPTIMISED BLOG POST IN HINDI – PART 12

SEO-फ़्रेंडली ब्लॉग पोस्ट कैसे लिखें? | HOW TO WRITE SEO OPTIMISED BLOG POST IN HINDI

जितना जरूरी अच्छा कंटेन्ट लिखना है उतना ही जरूरी उसका SEO करना भी है।

अगर आप अच्छा कंटेन्ट लिख लेते हैं और उसका सही से SEO नहीं करते हैं तो आपकी पोस्ट पर्याप्त लोगों तक नहीं पहुँच पाती है।

जिसकी वजह से आपके ब्लॉग पर पर्याप्त traffic नहीं आ पाता है।

इसलिए यह बेहद जरूरी है कि आप जो भी लिखें उसे पूरे seo friendly ढंग से लिखें।

केई लोगों को लगता है कि लिखना और ब्लॉग का seo करना दोनों अलग-अलग समय पर की जाने वाली चीजें हैं।

लेकिन मैं आपको बता दूँ कि ऐसा नहीं है। हम इन दोनों चीजों को एक साथ कर सकते हैं। बल्कि यह एक साथ ही किया जाना चाहिए।

आपको अपने ब्लॉग का on page seo करने के लिए अलग-से कुछ करने की कोई जरूरत नहीं हैं।

आप जो भी लिख रहें हैं उसे थोड़ा अलग- तरीके से लिखकर आप अपने ब्लॉग का on page seo कर सकते हैं।

आप ऐसा कैसे कर सकते हैं चलिए जानते हैं आज के इस आर्टिकल में-

ब्लॉग पोस्ट का seo कैसे करें? | HOW TO DO SEO OF BLOG POST IN HINDI

1) पोस्ट को मजेदार ढंग से लिखें (WRITE POST IN AN INTERESTING WAY) :

मजेदार चीजें किसे पसंद नहीं होती!

चाहे वो कोई फिल्म हो, किताब हो या फिर कुछ और।

हर कोई उस चीज को पसंद करता है जिसमें उसे आनंद आए।

तो कैसा रहेगा कि अगर हम जो आर्टिकल लिख रहें उसे भी मजेदार तरीके से लिखें।

हम लोगों को जो भी जानकारी दें उसे पढ़ने में उन्हें बेहद मज़ा आए और साथ ही साथ उनका ज्ञान भी बढ़ें।

मजेदार तरीके से पोस्ट लिखने के लिए आप अपनी पोस्ट में विषय से जुड़ा कोई किस्सा, कहानी या फिर अपना कोई अनुभव साझा कर सकते हैं जिससे कि आपका ब्लॉग पढ़ने वाले लोगों को फायदा हो।

उदाहरण के लिए, अगर आप “सुबह जल्दी कैसे उठें?” विषय पर पोस्ट लिख रहे हैं तो आप लोगों को बता सकते हैं, कि पहले आपको भी सुबह जल्दी उठने की आदत नहीं थी।

लेकिन फिर आपने कुछ ऐसा किया कि आपको सुबह जल्दी उठने की आदत पड़ गई।

इससे लोगों को मोटिवैशन और मज़ा दोनों मिलता है, और वे आपजे ब्लॉग से काफी देर तक जुड़े रहते हैं।

इस तरह जब लोगों को आपके ब्लॉग पोस्ट को पढ़ने में मज़ा आता है तो वे आपके ब्लॉग पर काफी देर तक टिके रहते हैं, जिससे आपके ब्लॉग का Dwell Time बढ़ता है, जो गूगल में रैंक करने के लिए बेहद जरूरी है।

इसके अलावा जब लोगों को आपका कंटेन्ट मजेदार लगता है, तो वे बड़ी संख्या में पोस्ट पढते हैं।

जिससे ब्लॉग का bounce rate कम होता अहै और pageviews बढ़ते हैं जो गूगल में रैंक करने के लिए बहुत जरूरी है।

इस प्रकाय अगर आप रुचिपूर्ण ढंग से पोस्ट लिखते हैं तो आपको indirectly काफी फायदे होते हैं और आपके ब्लॉग का SEO भी होता रहता है।

2) अच्छी जानकारी दें (PROVIDE GOOD INFORMATION) :

सिर्फ मज़ा ही सबकुछ नहीं है। अगर आपके ब्लॉग को पढ़ने में लोगों को सिर्फ मज़ा आ रहा है तो भी वे आपके ब्लॉग को छोड़कर जा सकते हैं।

इसलिए जरूरी है कि हम लोगों को अच्छी जानकारी भी दें।

अच्छी जानकारी से हमारा मतलब है कि हम लोगों को ऐसी जानकारी दें जो ज्यादातर बाकी ब्लॉग ना दे रहें हो।

हम जानकारी को सरल तरीके से पेश करके भी लोगों का विश्वास जीत सकते हैं।

इसके अलावा कंटेन्ट लिखने से पहले हमें उसके बारे में गहरी research भी करनी चाहिए इससे गलतियाँ होने के chances कम हो जाते हैं।

और साथ ही साथ लोगों को अच्छा और विस्तृत कंटेन्ट भी मिलता है।

अच्छी जानकारी देने से लोग हमारी वेबसाइट से अच्छी तरह से engaged रहते हैं जिससे seo सुधरता है।

इसलिए हमें हमेशा research करके कंटेन्ट लिखना चाहिए।

3) कीवर्डस का सही जगह प्रयोग करें (USE KEYWORDS AT THE RIGHT PLACE):

कई लोगों को लगता है कि अगर वो अपने ब्लॉग पोस्ट में ज्यादा बार कीवर्ड का प्रयोग करते हैं तो इससे उनकी पोस्ट गूगल में ज्यादा ऊपर रैंक होती है।

मैं आपको बता दूँ कि ऐसा आज से 10-15 साल पहले होता था आज इस तरह से रैंक कर पाना बेहद मुश्किल है।

आज हमें strategically keywords का प्रयोग करना पड़ता है।

स्ट्रेटिजी से हमारा मतलब है कि हमें दिमाग से यह देखना होगा कि keywords को कितनी मात्रा में कौन-सी जगह पे प्लेस करना है।

वैसे सामान्य तौर पर आपको अपना सबसे important keyword title में place करना चाहिए।

उसके बाद आपको शुरुआत की 100 शब्दों में भी अपना target keyword use करना चाहिए।

इसके बाद h1, h2, h3 आदि में भी अपने keyword का प्रयोग करना चाहिए।

इसके आलावा आर्टिकल में कुछ जगह पर अपने keyword को bold, italic और underline भी करना चाहिए।

और आर्टिकल के अंत के 100 शब्दों में अपने targeted keyword को लिखकर उसे highlight करना चाहिए।

4) सही तरह से इन्टर्नल लिंकिंग करें (STRATEGIC INTERNAL LINKING) :

ब्लॉग पोस्ट का अच्छी तरह से SEO करने के लिए internal linking भी बहुत ज्यादा जरूरी है।

जिन लोगों को नहीं पता कि internal linking क्या होती है उन्हें बता दें कि अपनी एक पोस्ट में अपनी ही दूसरी पोस्ट का लिंक देना, internal linking कहलाता है। इससे पोस्ट का seo इम्प्रूव होता है।

हमें अपनी एक पोस्ट में 3 से 5 internal link add करने चाहिए।

इसके अलावा हमें एक दो external links भी add करने चाहिए (यदि जरूरी हो तो) इससे भी फायदा होता है।

5) सही URL लिखें (WRITE OPTIMISED URL) :

यूआरएल से भी SEO पर काफी फरक पड़ता है इसलिए हमें हमें url को अच्छी तरह से लिखना चाहिए।

१) यूआरएल में जितना हो सके अंकों को नहीं लिखना चाहिए

२) बिना डेट वाला URL STRUCTURE चुनना चाहिए।

३) यूआरएल में अपना keyword शामिल करना चाहिए

४) यूआरएल को जितना हो सके छोटा रखा जाना चाहिए।

५) लंबी और विस्तृत पोस्ट लिखें (WRITE LONG AND DETAILED POST):

गूगल चाहता है कि लोग जो ढूंढ रहें हैं उसकी उन्हें सही और गहरी जानकारी मिले।

इसीलिए गूगल लंबी पोस्टों को अपने सर्च में ऊपर रैंक करता है।

इसलिए अगर आप गूगल में अच्छी position पर दिखना चाहते हैं तो आपको लंबी पोस्ट लिखने पर ध्यान देना चाहिए।

क्योंकि ऐसा करने से आपके गूगल में अच्छे स्थान पर रैंक होने के chances काफी हद तक बढ़ जाते हैं।

लेकिन लंबी पोस्ट लिखने का मतलब यह नहीं है कि आप सिर्फ पोस्ट में शब्दों को बढ़ाते जाए।

बल्कि इसका मतलब यह है कि आप लोगों को उस विषय से संबंधित, जिसके बारे में आप लिख रहे हैं, पूरी जानकारी दें।

दाहरने के तौर पर अगर आप “ब्लॉगिंग क्या है” विषय पर पोस्ट लिख रहें हैं तो आपको “ब्लॉगिंग का अर्थ”, “ब्लॉगिंग का महत्व”, “ब्लॉगिंग से जुड़े महत्त्वपूर्ण शब्द” और “ब्लॉगिंग कैसे करें” जैसे टोपिक्स को अपने पोस्ट में शामिल करना चाहिए।

इससे आपकी पोस्ट अच्छी पज़िशन पर रैंक करेगी और बहुत सारी अलग अलग कीवर्डस के लिए करेगी और आप पाएंगे कि इस तरह से आपके ब्लॉग पोस्ट पर काफी अच्छी मात्रा में ट्राफिक आने लगता है।

7) ब्लॉग पोस्ट का image SEO करें (DO IMAGE SEO) :

आपने पोस्ट लिखा है तो जाहीर सी बात है कि उसमें कुछ images भी ऐड की होंगी।

अगर आपने अपने ब्लॉग पोस्ट में फोटो ऐड किये हैं तो आपको उनका भी seo करना चाहिए।

१) आपको अपनी images के नाम में keywords ऐड करने चाहिए।

२) image में alt tag लगाना चाहिए।

३) images का साइज़ compress करना चाहिए।

इस तरह से आप पाएंगे कि आपकी images भी गूगल में रैंक करने लगी हैं और उनके द्वारा भी आपके ब्लॉग पर ट्राफिक आने लगता है।

8) विडिओ एसईओ करें (DO VIDEO SEO) :

अगर आपने अपने ब्लॉग में वीडियोज़ भी जोड़ी हैं तो आपको उनका भी seo करना चाहिए।

१) आपको अपनी विडिओ के नाम में keyword जोड़ना चाहिए।

२) और हो सके तो youtube से video embed करनी चाहिए।

३) सीधे ब्लॉग पर video upload करने से उन्हें load होने में काफी टाइम लगता है जिससे SEO खराब होता है।

CONCLUSION:

एसईओ फ़्रेंडली पोस्ट लिखने के लिए जरूरी है कि आपको SEO के बारे में basic जानकारी हो।

आपको पता हो कि keywords कैसे डालते हैं और image seo कैसे करते हैं।

पहले इन्हें सीखिए फिर आप ब्लॉग का SEO आसानी से कर पाएंगे।

उम्मीद है कि आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई होगी। अगर आपका कोई सवाल है तो कमेन्ट के माध्यम से जरूर पूछें।

अपने दोस्तों में लेख शेअर करें मनाचेTalks हिन्दी आपके लिए ऐसी कई महत्त्वपूर्ण जानकारियाँ लेके आ रहा है। हमसे जुड़ने के लिए हमारा फेसबुक पेज मनाचेTalks हिन्दी को लाइक करिए और हमसे व्हाट्स ऐप पे जुड़े रहने के लिए यहाँ क्लिक करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *