कर्नाटक दंगाइयों पर लागू होगी वसूली प्रक्रिया : पर्यटन मंत्री का बड़ा बयान

कर्नाटक दंगाइयों पर लागू होगी वसूली प्रक्रिया

कर्नाटक की सरकार, बैंगलुरू में हुए दंगे पर काफी ज्यादा एक्शन में दिख रही है। अब दंगाइयों पर उसी तरह वसूली एक्ट लगाया जाएगा। जिस तरह CAA हिंसा के वक्त यूपी के माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लगाया था।

क्या दंगे सुनियोजित थे ??

कर्नाटक के पर्यटन मंत्री सि.टी. रवि का कहना है कि दंगे पहले से सुनियोजित थे।
जल्द ही वसूली प्रक्रिया शुरू होगी।

लगेगा योगी मॉडल, छपेगा पोस्टर, नुक़सान का हो रहा है आंकलन

दंगे में सार्वजनिक व निजी संपत्तियों को अच्छा खासा नुक़सान पहुंचा है। संपत्ति को नुक़सान पहुंचाने के लिए पेट्रोल बम और पत्थरों का इस्तेमाल किया गया। 300 से ज्यादा गाडियां जल गई।

सीएम यदुरप्पा जी का बयान आया है कि नुक़सान का आंकलन किया जा रहा है कोई भी दोषी बख्शा नहीं जाएगा।

कर्नाटक के गृह मंत्री बी.एस. बोम्मई का बयान

गृह मंत्री बी.एस. बोम्मई ने कहा “जैसे उत्तरप्रदेश की सरकार ने वसूली की थी, ठीक उसी तरह दंगाइयों की प्रॉपर्टी बेचकर नुक़सान की भरपाई करेंगे”

नुक़सान करोड़ों का है दहाईयों में गाडियां फुक दी गई है।

क्या है वसूली का यूपी मॉडल

उत्तरप्रदेश में CAA के विरोध में हुई आगजनी और व्यापक क्षति के बाद यूपी सरकार ने फैसला किया कि वो अब इन संपत्तियों की वसूली दंगाइयों से करेंगे।

प्रदर्शन काफी हिंसक था जिसे माननीय मुख्यमंत्री ने संज्ञान में लेकर आरोपियों के खिलाफ पोस्टर जारी करने का निर्देश दिया।

जिस पर विवाद भी हुआ निजता का उल्लंघन का मामला इलाहाबाद हाई कोर्ट में आया।
जिस पर हाई कोर्ट ने सरकार को तय समय सीमा में पोस्टर हटाने का निर्देश दिया।

योगी यहां पर भी न रुके उन्होंने कानून को बदलने का ही फैसला कर लिया और संसद में आरोपियों को सजा दिलाने हेतु उत्तर प्रदेश रिकवरी ऑफ डैमेज टू पब्लिक एंड प्राइवेट प्रॉपर्टी अध्यादेश-2020 अध्यादेश लाया और अपने फैसले पर अडिग रहे।

इस अध्यादेश के तहत सैकड़ों आरोपियों से वसूली की जा चुकी है।

मनाचेTalks हिंदी
मराठी भाषा, महाराष्ट्र में लोगोंसे सराहे जाने के बाद मनाचेTalks अब हिन्दी में!!

ऐसे ही अच्छे लेखों के अपडेट्स पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज मनाचे Talks हिंदी को लाइक करें। और वॉट्सएप पर लेख का अपडेट पाने के लिए यहां क्लिक करें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *