क्या आपको ये घरेलू एंटीबायोटिक्स पता है ?

एंटीबायोटिक घरेलू उपचार

जब भी हम बीमार होते है, तब हर बार हमे डॉक्टर के पास जाने की जरूरत नहीं पड़ती। हमारे घर में भी कुछ प्राकृतिक दवाइया मौजूद होती हैं। बस उनका सही इस्तमाल हमें पता होना जरूरी होता है।

आप घर पर मौजूद कुछ एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग कर सकते हैं। वे प्राकृतिक एंटीबायोटिक्स क्या हैं? उनके उपयोग क्या हैं? उनके उपयोग के तरीके क्या हैं? आइए आज के इस लेख में इसके बारे में जानें।

बचपन में जब हम बीमार होते थे, तो हमारी दादी तुरंत हमे डॉक्टर के पास नहीं ले जाती थी। खांसी होने पर हल्दी और दूध, तुलसी, लौंग, अदरक का अर्क जैसे घरेलू उपचार से ही हमें ठीक कर देती थी।

कभी पेट दर्द करता तो अरंडी का तेल पिया करता उससे ठीक हो जाता।

हर किसी की दादी मां आपके लिए जरूर इन नुस्खों का उपयोग करती होंगी।

वास्तव में, कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जो हम अपने घर में हर दिन उपयोग करते हैं जिनके औषधीय गुणों के बारे में हमें जानकारी नहीं होती।

हमारे रसोइयों में प्राकृतिक एंटीबायोटिक्स भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

उनके उपयोग से हमारे शरीर में आंतरिक अथवा बाहरी रूप से भी कीटाणु और वायरस नष्ट हो जाते हैं। आइए देखें कि प्राकृतिक एंटीबायोटिक्स कैसे काम करते हैं।

प्राकृतिक एंटीबायोटिक्स के कार्य

एंटीबायोटिक्स आमतौर पर मानव शरीर में कीटाणु और वायरस को मारने के लिए उपयोग किए जाते हैं।

यह आधुनिक चिकित्सा उपचारों में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। हालांकि, इन एंटीबायोटिक्स का उपयोग प्राचीन काल से किया जाता रहा है।

अधिकांश एंटीबायोटिक्स प्राकृतिक पदार्थों का उपयोग करके बनाए जाते हैं।

आधुनिक एंटीबायोटिक दवाओं में कई औषधीय पौधों, तेलों और आटे से अर्क का उपयोग किया गया है।

हल्दी, लहसुन, शहद और तुलसी सहित कई खाद्य पदार्थ एंटीबायोटिक दवाओं में इस्तमाल किए जाते है। इसलिए अगर आप इसे वैसे ही खाएंगे तो इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होगा।

लेकिन कुछ खाद्य पदार्थ जिन्हें आप सीधे मुंह से नहीं खा सकते हैं। उसके लिए, इसे संसाधित करना होगा। तो आइए जानें अपने प्राकृतिक एंटीबायोटिक्स के बारे में।

1) शहद – शहद को प्राचीन चिकित्सा में एक बहुत ही महत्वपूर्ण घटक माना जाता है। इसलिए, प्राकृतिक प्राचीन एंटीबायोटिक दवाओं में शहद का व्यापक रूप से उपयोग किया गया था।

इसलिए, इसका उपयोग भारत के साथ-साथ मिस्र में भी त्वचा का रंग सुधारने के लिए किया जाता था।

शहद में हाइड्रोजन पेरोक्साइड होता है। इसलिए, शहद का उपयोग ज्यादातर एंटीबायोटिक के रूप में किया जाता है।

शहद में चीनी की मात्रा अधिक होती है क्योंकि इसका स्वाद मीठे रस की तरह होता है। यह गर्म भी है। इसलिए शहद के सेवन से शरीर में पैदा होने वाले जीवाणुओं को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

शहद शरीर से नमी को अवशोषित करता है, त्वचा के रंग में सुधार करता है। शहद का उपयोग कई खाद्य पदार्थों में किया जाता है। शहद को वैसे ही खाया जा सकता है। आप कुछ खाद्य पदार्थों के साथ भी खा सकते हैं, उपयोग कर सकते हैं।

त्वचा का रंग निखारने के लिए- शहद और नींबू या शहद और हल्दी को मिलाकर चेहरे पर लगाएं।

वजन कम करने के लिए- सुबह एक चम्मच शुद्ध शहद और एक चम्मच नींबू का रस गर्म पानी के साथ पिएं।

घाव भरने के लिए- घाव पर शहद लगाएं।

2) लहसुन- लहसुन आपकी रसोई में एक महत्वपूर्ण घटक है।

इसके बिना कोई भी मसालेदार और तीखा पदार्थ नहीं हो सकता। इसलिए रसोई में लहसुन होना चाहिए।

लेकिन ऐसे छोटे लहसुन लौंग में बहुत सारी औषधीय शक्ति छिपी हुई है।

लहसुन में बहुत अधिक मात्रा में एंटीबायोटिक्स होते हैं। इसलिए आप इसे अपने आहार में जरूर इस्तेमाल करें।

लहसुन का तेल भी बहुत फायदेमंद होता है। आप इस तेल को घर पर भी बना सकते हैं।

इसके लिए आप जैतून के तेल में चार से पांच लहसुन लौंग और लौंग मिलाकर तेल बना सकते हैं। हालांकि पेट की शिकायतों के लिए लहसुन एक अच्छा उपाय है, इसके अधिक सेवन से आंतरिक रक्तस्राव हो सकता है।

इसलिए ज्यादा लहसुन न खाएं। लहसुन बहुत गर्म है। लहसुन को मॉडरेशन में खाने के फायदे जानें।

खून को पतला करता है- लहसुन खाने से शरीर में खून बढ़ता है

3) थाइम तेल – इस पौधे में ओवा की तरह एक साधारण स्वाद होता है। इसका उपयोग तेल बनाने के लिए भी किया जाता है।

थाइम से बने तेल का उपयोग सभी सफाई उत्पादों में बड़े पैमाने पर किया जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसमें वायरस को नष्ट करने की क्षमता अधिक है।

इसलिए, इस पौधे से बना तेल एक जीवाणुरोधी के रूप में उपयोग किया जाता है।

शोध से पता चला है कि थाइम और लैवेंडर तेल के संयोजन से 120 प्रकार के वायरस और कीड़े मारे जा सकते हैं।

लेकिन अजवायन के तेल का उपयोग केवल बाहरी कीड़े, वायरस को मारने के लिए किया जाता है।

इसका उपयोग सीधे मानव शरीर पर नहीं किया जाता है। आप थाइम तेल नहीं पी सकते हैं इसे पीने की कोशिश भी न करें।

जब थाइम तेल सीधे त्वचा पर लगाया जाता है, तो यह सूजन और खुजली का कारण बनता है। थायराइड और उच्च रक्तचाप वाले लोगों को इस तेल से बचना चाहिए।

4) अजवाइन पत्ती का तेल- अजवाइन हम सभी जानते हैं। यह हर किसी के घर में पेट दर्द की एक पारंपरिक दवा है।

अजवाइन स्वाद कसैले, मसालेदार है और एक तीखी गंध है। पित्त गैस के कारण सूजन, पेट दर्द के लिए ओवा अच्छा है।

ऐसी बीमारियों में अजवाइन, लेमन ग्रास का रस भी दिया जाता है।

अजवाइन की हरी पत्तियों से तेल बनाते हैं। जिसका उपयोग प्राचीन काल से कई उपचारों में किया गया है। आइए देखें कि अजवाइन का उपयोग कैसे करें।

अजवाइन का इस्तेमाल जुकाम में – अजवाइन को आँच पर रख कर उसका धुआं करें। एक्जिमा और भी कई त्वचा रोगों के लिए, त्वचा पर नारियल तेल के साथ मिश्रित अजवाइन पत्ती का तेल लगाए।

घर में कीटाणुओं को नष्ट करने के लिए- आप घर की सफाई के लिए एक क्लीनर बना सकते हैं, घर पर फर्श को पोंछ कर, अजवाइन पत्ता, सिरका, पानी और नींबू के रस के तेल को मिला कर। यह मच्छरों, मक्खियों और अन्य कीड़ों को घर में प्रवेश करने से रोकेगा और गंध को भी अच्छा रखेगा।

इस प्रकार के प्राकृतिक एंटीबायोटिक्स आपके घर में मौजूद हैं और आपको उनके उपयोगों को जानना होगा। इससे भी बड़ी बात यह है कि हमें अपने रसोई घर से हमारे आसपास की प्रकृति से औषधीय लाभ मिलते हैं, इसके उपयोग कभी-कभी ज्ञात होते हैं और कभी-कभी नहीं।

प्रकृति द्वारा दिए गए इस औषधीय खजाने का उचित उपयोग करें और अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखें।

सुचना: लेख में दी गई जानकारी चिकित्सा उपचार के विकल्प के रूप में नहीं दी गई है। सूचना पेशेवर चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार के लिए यह विकल्प नहीं है।

अपने दोस्तों में लेख शेअर करें मनाचेTalks हिन्दी आपके लिए ऐसी कई महत्त्वपूर्ण जानकारियाँ लेके आ रहा है। हमसे जुड़ने के लिए हमारा फेसबुक पेज मनाचेTalks हिन्दी को लाइक करिए और हमसे व्हाट्स ऐप पे जुड़े रहने के लिए यहाँ क्लिक करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *