समय का सही उपयोग, वक़्त का सही इस्तेमाल करने के ४ तरीक़े

निबंध समय का सदुपयोग

एक नई सुबह – खुद के संग।

अपने दिन को बेहतर बनाए। अपनी सुबह को तरो ताज़ा रखे। किसी और को हक ना दे, अपने मूड़ को बनाने और बिगाड़ने का।

आज 96% लोग सुबह उठ कर पहले 5 मिनट में सबसे पहला काम अपना फोन चेक करते है। जबकि स्मार्ट फोन से पहले लोग सुबह उठ कर सबसे पहले ईश्वर को याद करते थे।

जो उनके साथ अच्छा हुआ उसके लिए ईश्वर का धन्यवाद करते थे और अगर कोई समस्या है तो उसके लिए प्रार्थना करते थे लेकिन आज सब कुछ बहुत बदल गया है।

अब हम सुबह उठकर सबसे पहले अपना फोन, अपना मेल बॉक्स आदि चेक करते हैं जिसमें कुछ अच्छी खबरें भी होती है और कुछ बुरी खबरें भी। अच्छी खबरें आपका मूड अच्छा कर देती हैं और अगर खबर अच्छी नहीं है तो आपका मूड सारा दिन ही खराब रहता है।

लेकिन कोई भी इसे समझ नहीं पा रहा है। हर किसी को यही लगता है कि 5 मिनट फोन चेक करने में कोई नुकसान नहीं है लेकिन इसके कई नुकसान है। सबसे पहले तो यह 5 मिनट कब 15 मिनट में बदल जाते हैं हमें पता ही नहीं लगता। और दूसरा और सबसे महत्वपूर्ण, आप किसी और को हक दे रहे है अपनी सुबह को बनाने या बिगाड़ने का। ऐसा मत कीजिए। आपके दिन की शुरुआत केवल आपकी ही होनी चाहिए। एक अच्छी शुरुआत हमेशा सफर को अच्छा बना देती है।

आप अपने समय और दिन को व्यवस्थित करके, अपना शेड्यूल तय करके, अपने दिन का बेहतर इस्तेमाल कर सकते है।

हम आपको कुछ ऐसी बातें बताते है जिन्हें अपने जीवन में अपनाकर आप अपनी सुबह और दिन को बेहतर बना सकते है।

1. अपने महत्त्वपूर्ण कार्य को अपने बॉडी क्लॉक के अनुसार तय करें।

अब आप सब यह जानना चाहेंगे कि बॉडी क्लॉक क्या होता है?

बॉडी क्लॉक का मतलब आपकी ऊर्जा (Energy), आपकी कार्य क्षमता (Working Efficiency), आपकी मानसिक स्थिति (Peace of Mind) से है।

आपका बॉडी क्लॉक आपका काम करने का तरीका तय करता है जैसे दिन के किस समय में आप ज्यादा फ्रेश फील करते है। आपकी कार्यक्षमता किस समय सबसे अधिक होती है।

इस दुनिया में लगभग 10% लोग ऐसे है, जो सुबह सबसे अधिक ऊर्जावान महसूस करते है। वहीं दूसरी तरफ 20% लोग ऐसे है जो Night Lover होते है और रात में अपना सर्वश्रेष्ठ काम करते है।

दोपहर के भोजन के बाद अधिकांश सभी लोग थोड़ा थका हुआ फील करते है और थोड़ी देर आराम करना चाहते है। यह समय लगभग सभी के लिए आलस का समय होता है।

शाम को एक बार फिर सभी खुद को फ्रेश फील करते है। शायद काम पूरा होने की चिंता कम हो जाती है या काम के समय (Working Hours) के खत्म होने की खुशी होती है। कुछ लोगों को घर पहुंचने की खुशी होती है और कुछ फ्री होकर जल्दी से पार्टी करने जा सकते है, इसकी खुशी मनाते है।

The Scientific Secrets of Perfect Timing के लेखक डैन पिंक के अनुसार यदि आप अपने कार्य को अपनी बॉडी क्लॉक के अनुसार तय करेंगे तो काम बेहतर और बेहद जल्दी कर पाएंगे।

जिन कार्यों को ज्यादा अटेंशन (Attention) की जरूरत होती है उन्हें सुबह किया जाना चाहिए और अपनी कॉलस (Calls) का रिप्लाई करना अपनी मेल्स (Mails) को चेक करना जैसे कार्य आप दोपहर में कर सकते है। सुबह का समय बेहद कीमती होता है, इसे अपने रचनात्मक कार्यों के लिए उपयोग करें तो आपका कार्य बेहतरीन होगा।

2. अपने दिन की योजना एक रात पहले बनाएं।

आपका दिन बेहतर अपने आप नहीं हो जाता उसे बेहतर बनाना पड़ता है और इसके लिए सबसे अच्छा तरीका है नियोजन (planning)।

जब हम लिख लेते है कि हम क्या करना चाहते है – और कब और कहाँ करना चाहते हैं – तो हम अपने लक्ष्यों को जल्दी हासिल कर पाते है।

Google की कार्यकारी उत्पादकता सलाहकार, लौरा मे मार्टिन ने भी अपने एक इंटरव्यू में कहा था कि वह एक रात पहले अपने दिन का एक टेम्प्लेट बनाती है। अपनी शीर्ष तीन प्राथमिकताओं को लिखती है और ‘जब तक यह पहला कार्य समाप्त नहीं हो जाता, तब तक बाकी सब कुछ एक व्याकुलता है’। फिर उसी टेम्पलेट का उपयोग अपने दिन की सूक्ष्म-स्तर पर, घंटे-दर-घंटे योजना बनाने के लिए करती है।

इस तरह सावधानीपूर्वक सोच समझकर बनाई हुई दैनिक योजना आपके दिन पर नियंत्रण रखती है और आपके जरूरी कार्य को आपको समय-समय पर याद दिलाती रहती है।

3. कार्य के लिए उपयुक्त स्थान (Working Place) चुनना

आपके आसपास का वातावरण आप की कार्य क्षमता पर प्रभावी असर डालता है। जैसे अगर हम लेखन का कोई कार्य करना चाहते हैं तो हमें शांत वातावरण चाहिए। यदि हम मोबाइल या लैपटॉप पर कुछ कर रहे है तो हम सबके बीच में बैठकर भी कर सकते है। अगर आपको किसी को वीडियो कॉल करना है तो आप एक साफ-सुथरी सुंदर जगह चाहेंगे। तो हम कह सकते है कि आपका आसपास के माहौल का असर आपके कार्य पर साफ साफ दिखाई देता है। इसलिए हमेशा अपने कार्य के लिए उपयुक्त जगह का भी चुनाव करें। इसीलिए तो वर्क फ्रॉम होम बेशक हमारे अनावश्यक खर्चों को घटा रहा है लेकिन हमें कार्य करने के लिए Proper Motivation नहीं दे रहा है इसीलिए अधिकतर कर्मचारी वापस ऑफिस जाना चाहते है।

4. 100% व्यस्तता से बचें

अगर आप भूल गए है तो हम आपको याद दिला देते हैं कि आप मशीन नहीं इंसान है। दिन के 24 घंटे लगातार कोई भी कार्य नहीं कर सकता। हमें ब्रेक भी चाहिए, पर्याप्त नींद भी चाहिए, समय पर खाना भी चाहिए और दिन का कुछ Free Time अपने लिए भी चाहिए। बात अगर एक-दो दिन की हो तो हम इनमें से कुछ भी शायद छोड़ सकते है लेकिन रोजाना 100% व्यस्तता (Occupancy) आपको और आपके शरीर दोनों को थका देगी।

GitLab में रिमोट वर्क के प्रमुख डैरेन मर्फ़ के अनुसार किसी का भी 100% समय बुक किया जाना एक बहुत बड़ा जोखिम है।

यह कभी भी आपके इच्छा अनुसार परिणाम नहीं देगी और अगर रिजल्ट ही बेहतर नहीं हुआ तो कार्य करने का क्या फायदा।

प्रभावी और कुशलतापूर्वक कार्य करने के लिए समय का सदुपयोग अति आवश्यक है।

सहज रहे, प्रभावी रहे।

कार्य चाहे थोड़ा करें, लेकिन जो भी करें सर्वोत्तम करें। सुबह उठ कर समय देखने के लिए फोन नहीं बल्कि घड़ी का प्रयोग करें। 5 मिनट ईश्वर को याद करें और खुली तरोताजा हवा में अपने दिन की शुरुआत करें। अपने कार्य और अपनी दिनचर्या तय करें। जो भी करें, उसे अपना 100% दें, देखिएगा सफलता आपके कदम चूमेगी।

अपने दोस्तों में लेख शेअर करें मनाचेTalks हिन्दी आपके लिए ऐसी कई महत्त्वपूर्ण जानकारियाँ लेके आ रहा है। हमसे जुड़ने के लिए हमारा फेसबुक पेज मनाचेTalks हिन्दी को लाइक करिए और हमसे व्हाट्स ऐप पे जुड़े रहने के लिए यहाँ क्लिक करे। टेलीग्राम चैनल जॉइन करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

1 thought on “समय का सही उपयोग, वक़्त का सही इस्तेमाल करने के ४ तरीक़े”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *