अगर आज आपकी जिंदगी का आखिरी दिन हो?

अगर आज आपकी जिंदगी का आखिरी दिन हो?

अगर आज आपकी जिंदगी का आखिरी दिन हो? सोचो कभी ऐसा हो तो क्या हो?

अगर कभी आपको पता लगे कि आज आपकी जिंदगी का आखिरी दिन है, तो आपको कैसा लगेगा?

आपको कैसा लगेगा, निर्भर करता है आपके उम्र के पड़ाव पर,

अगर आप शिशु है तो आपको कुछ फर्क ही नहीं पड़ेगा।

अगर आपकी उम्र 10 वर्ष तक की है तो आप कहेंगे कि मैं मम्मी-पापा के बिना कैसे रहूंगा?

अगर आप teenager है तो आप कहेंगे, हाय, हम अपने दोस्तो और फोन के बिना कैसे रहेंगे?

अगर आप युवा-अवस्था में है तो शायद आप विश्वास ही नहीं करेंगे, आप भगवान से लड़ाई करेंगे कि ऐसा कैसे हो सकता है?

लेकिन अगर आप जवान है तो आप सबसे पहले क्या करना चाहोगे?

१) अपने परिवार के साथ समय बिताना चाहोगे?

२) लंबी छुट्टी पर जाना चाहोगे?

३) दोस्तों के साथ मिलकर मौज-मस्ती करना चाहोगे?

४) रूठे हुए लोगों को मनाना चाहोगे?

५) किसी से माफी मांगना चाहोगे?

६) किसी को ना बोलना चाहोगे?

७) किसी से घंटो बैठकर बात करना चाहोगे?

अगर किसी एक सवाल का जवाब भी हां हैं तो मेरे दोस्त, उठिए, कल का इंतजार क्यों करना?

जब जिंदगी की प्राथमिकताएं पता है तो देर किस बात की है। कल किसने देखा है? जब समय किसी के लिए नही रुकता तो आप समय के लिए क्यों रुके हो?

लेकिन आज हमारी आदतें ही बिगड़ गई है जब तक अल्टीमेटम नही मिलता तब तक कार्य पूरा नहीं होता।

आज की इस भागती जिंदगी में Last minute पर दौड़ भाग करके सभी कार्यों को पूरा करने की ऐसी आदत हो गई है कि जब भगवान ने आराम से सभी कार्यों को पूरा करने का समय दिया है तब हम उसकी कद्र नहीं करते।

जो कार्य हम जिंदगी के आखिरी पलों में करना चाहेंगे, अगर अभी वही कार्य करने के लिए किसी को कहा जाए तो सबके पास अपने-अपने बहाने होंगे।

परिवार के साथ इत्मीनान के कुछ पल बिताने हो तो हम कहेंगे कि समय नहीं है, काम पर जाना है, इससे मिलना है, उससे मिलना है।

यह भूल जाएंगे कि परिवार के साथ बिताए ये लम्हें जिंदगी की सबसे बड़ी दौलत है। कभी मां बाप के साथ बैठकर उनका हालचाल पूछकर देखिए, दुआएं कमाएंगे।

कभी बीवी के साथ प्यार भरे कुछ लम्हें बिताइए, चैन भरा दिल कमाएंगे। कभी बच्चों के साथ उनका बचपन जी कर देखिए, चेहरे की मुस्कुराहट कमाएंगे।

लंबी छुट्टी पर जाने की कोई कहे तो, कहेंगे कि छुट्टी नहीं मिल रही, पैसे कहा से आएंगे, फिजूलखर्ची की क्या जरूरत है?

आसमां में भी छेद होता है, बस देर है तो एक पत्थर तबीयत से उछालने की।

महंगे ट्रिप की नही, यादगार ट्रिप की ज़रूरत है साहब।

चैन की नींद, सुकून के पल,
मीठी यादें, खिलखिलाते पल।

ये दौलत और कहीं नहीं मिलेगी साहब। कहीं बाहर ना जाकर घर पर ही सब भाग दौड से दूर रहकर भी छुट्टियां मनाई जा सकती है।

दोस्तों के साथ मिलकर मौज मस्ती करके देखिए, सब चिंताओं को भूलकर आपका मस्त-मौला बचपन वापस लौट आएगा।

रूठे हुए रिश्तों को आज ही मना लीजिए। क्योंकि रूठता वहीं है जो आप पर हक समझता है। झूठे और मतलबी रिश्तें कभी भी आपकी बातों को दिल से लगाकर रूठेंगे नहीं।

रूठता वहीं है जिसने आपसे दिल लगाया है और आपकी कोई बात जिसके दिल पर लगी होगी। तो दिल से जुड़े रिश्तों को जाने मत दीजिए यहीं आपके सच्चे रिश्ते है जो उम्र भर साथ निभाएंगे।

कागज पर कुछ गलत लिखा जाए,
तो उसे मिटाया जाता है,
कागज फेंका नहीं जाता।
रूठे हुए रिश्तों को,
मनाया जाता है,
रिश्ता तोड़ा नहीं जाता।

माफी मांगने से कोई छोटा नही होता। अगर किसी का दिल दुखाया है तो माफी मांग कर उसका कर्ज आज ही चुका दीजिए, नहीं तो क्या पता साहब कब तक मोल चुकाना पड़ेगा।

दिल उसी का दुखेगा जो आपको अपना समझता है, गैरों को क्या आपसे गिले शिकवे। इसलिए अपनों को गैर मत बनाइए, आज ही माफी मांग कर, सारे गिले शिकवे मिटाइए।

आज ही ना बोलिए,
हर उस कार्य को जो आपको थका रहे है।
जो आपको अपनों से दूर कर रहे है।
जिस के लिए आपका मन गवाही नहीं दे रहा।
जिसे करके आपको खुशी नही हो रही।
कार्य जो आप कर रहे है बस किसी मजबूरी में।
परेशानी और पछतावे से अच्छा है, ना कर दीजिए।

बातें जो कभी खत्म नहीं होनी चाहिए। बातें जो दिल का हाल बयां करती है। जो किसी के जख्मों को भर सकती है। बातें जो दिलों की दूरियों को मिटा सकती है।

अरे जमाना बीत गया, आराम से बैठ कर बात किए हुए। वो भी क्या दिन थे जब घंटो बैठकर बातें करते थे। वो दिन वापिस आ सकते है यारों, कोशिश करके तो देखो।

आज ही उनसे जी भर कर बातें कर लीजिए, जिनसे कई सालों से करना चाहते है। देखिएगा, ज़रूरी कार्यों के लिए समय अपने आप मिल जाएगा।

आज का काम कल पर मत छोड़िए। जिन्दगी जिंदादिली का नाम है, इसे खुल कर जीना चाहिए। क्या पता आज का दिन ही आखिरी हो, सब ख्वाहिशे पूरी कर लेनी चाहिए। कार्य जरूरतों को पूरा करने के लिए किया जाता है जो कभी पूरी नहीं होती, आपके साथ-साथ चलती रहती है।

इसलिए जब जरूरतों को पूरा करने के लिए समय निकाल रहे हो तो ख्वाहिशों को पूरा करने के लिए भी निकालिए। जिंदगी के किसी भी मोड पर फिर कोई मलाल नहीं रहेगा।

अपने दोस्तों में लेख शेअर करें मनाचेTalks हिन्दी आपके लिए ऐसी कई महत्त्वपूर्ण जानकारियाँ लेके आ रहा है। हमसे जुड़ने के लिए हमारा फेसबुक पेज मनाचेTalks हिन्दी को लाइक करिए और हमसे व्हाट्स ऐप पे जुड़े रहने के लिए यहाँ क्लिक करे। टेलीग्राम चैनल जॉइन करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *