मधुमेह में ये चीजें खाने से मिलेगा सेहत को फायदा (World Diabetes Day Sunday, 14 November)

मधुमेह में ये चीजें खाने से मिलेगा सेहत को फायदा diet if dibetes World Diabetes Day

World Diabetes Day Sunday, 14 November

हमारी आज की आधुनिक जीवन शैली में मधुमेह यानी डायबिटिज स्वास्थ्य से संबंधित एक सामान्य समस्या का रूप लेती जा रही है।

औऱ एक बार अपना शिकार बना लेती है तो फिर जीवन भर मुश्किल से ही पीछा छोड़ती है।

WHO के सर्वे (2019) के मुताबिक मधुमेह के सबसे ज्यादा रोगी भारत में हैं और भारत को मधुमेह की राजधानी भी कहा जाता है।

इसके अनुमान के अनुसार विश्व में मधुमेह से पीड़ित होने वाला हर पांचवां व्यक्ति भारतीय है।

इंडियन काउंसिल ऑफ रिसर्च के अनुसार आज देश के युवा भी इस बीमारी की चपेट में आ रहे हैं जो देश के लिए बिलकुल भी अच्छा नहीं है।

मधुमेह या डायबिटिज को नियंत्रित करने के लिए हम अपनी जीवन-शैली में कुछ परिवर्तन के साथ ही अगर अपने आहार में कुछ खास खाद्य पदार्थ शामिल कर लें तो बेहतर असर दिखेगा।

बता दें कि इस रोग में उचित आहार भी औषधि का काम करता है।

अगर हम अपने दैनिक आहार में ऋतु या मौसम के अनुसार कुछ खास खाद्य पदार्थों का सेवन करें तो काफ़ी फायदा पहुंच सकता है।

१) पालक

पालक में पोटेशियम और ल्यूटिन की प्रचुर मात्रा उपलब्ध पायी जाती है।

ल्यूटिन व्यक्ति की नसों की दीवारों की मोटाई कम कर हार्ट अटैक का खतरा कम करता है।

पालक में फोलेट और मैग्नीशियम भी काफी मात्रा में पाया जाता है जिससे रक्तचाप कम बना रहता है तथा मधुमेह पर भी नियंत्रण होता है।

२) चुकंदर

चुकंदर में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट रक्तचाप एवं कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करता है।

इसमें विटामिन ‘बी’ भी उपस्थित होता है।

जिससे हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ता है तथा रक्त संचरण सही बना रहता है।

इसमें फाइबर की काफी मात्रा में मौजूदगी होने से पाचन क्रिया ढंग से काम करती है तथा शरीर में ऊर्जा का स्तर बना रहता है।

३) गाजर

गाजर में बीटा कैरोटिन, विटामिन ‘ए’, विटामिन ‘सी’, विटामिन ‘बी 1’, खनिज-लवण एवं एंटीऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में मौजूद पाए जाते हैं।

गाजर में मौजूद पोटेशियम शरीर में सोडियम के दुष्प्रभाव को कम करने में सहायक है।

स्ट्रोक के जोखिम को कम करती है तथा खून की कमी से बचाती है।

अमेरिकन डायबिटिज एसोसिएशन का कहना है कि गाजर एक स्टार्च रहित सब्ज़ी (non-starchy vegetable) है ऐसे में डायबिटिज के मरीज इसे बेहिचक खा सकते हैं।

इसमें मौजूद कंपाउंड्स मधुमेह के नियंत्रण में मदद करते हैं।

४) मेथी

मेथी हमारी पाचन क्रिया को धीमा करती है तथा साथ ही शरीर में चीनी अवशोषित करने की दर को कम करके शरीर से जारी होने वाले इंसुलिन की मात्रा बढ़ाने में मदद करती है।

इसमें घुलनशील फाइबर (soluble fibres) तथा ग्लैक्टोमेनन प्रचुर मात्रा में उपस्थित पाया जाता है।

ग्लैक्टोमेनन पाचन की दर को कम कर शरीर में कार्बोहाइड्रेट का अवशोषण भी कम करता है जिस कारण ब्लड शुगर लेवल नीचे आने में मदद मिलती है।

इसके अलावा ग्लूकोज टालरेंस में भी सुधार लाता है।

५) लहसुन

लहसुन में काफी मात्रा में सेलिनियम, पोटेशियम, सल्फर, जिंक तथा मैगजीन पाया जाता है।

ये सभी तत्व इंसुलिन निर्माण में मदद करते हैं।

अतः लहसुन को अपने आहार में सम्मिलित करने से भी मधुमेह में फायदा मिल सकता है।

६) सोयाबीन

सोयाबीन में उपस्थित कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, मधुमेह रोगियों के लिए उत्तम औषधि है।

इसमें फाॅस्फोलिपिड्स लेसिथिन तथा कोलिन होता है जो स्नायु को प्राणवान एवं सबल बनाता है।

इसके सेवन से मूत्रगत शर्करा में तेजी से कमी आती है।

७) करेला

करेले और शलगम के पत्तों में इंसुलिन जैसा रसायन पाया जाता है।

करेले में मौजूद रक्त शर्करा नियंत्रक यौगिक का नाम ‘पाॅलीपेप्टाइड पी’ है जो कई अमीनो एसिड्स से मिलकर बना है।

इसमें मौजूद चैरेटिन एवं मोमोरडिसिन नामक यौगिक शुगर लेवल कम बनाए रखने में मदद करते हैं।

८) अनाज

अपने आहार में विविध प्रकार के अनाज जैसे कि दलिया, जौ, ब्राउन राइस, बाजरा आदि सम्मिलित करें।

इनमें भरपूर मात्रा में फाइबर एवं पोषक तत्व होते हैं।

ये शरीर में प्राकृतिक तौर पर ब्लड शुगर का लेवल मेंटेन रखने में मदद करते हैं।

इनके नियमित सेवन से शुगर का खतरा कम हो जाता है।

आपकी समस्या के अनुसार एक्सपर्ट या डॉक्टर की राय जरूर लें।/ The information is not a substitute for professional medical advice, diagnosis, or treatment.

अपने दोस्तों में लेख शेअर करें मनाचेTalks हिन्दी आपके लिए ऐसी कई महत्त्वपूर्ण जानकारियाँ लेके आ रहा है। हमसे जुड़ने के लिए हमारा फेसबुक पेज मनाचेTalks हिन्दी को लाइक करिए और हमसे व्हाट्स ऐप पे जुड़े रहने के लिए यहाँ क्लिक करे। टेलीग्राम चैनल जॉइन करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *