इस लेख से सीखें, पैसे बचाने के बेहतरीन उपाय!

पैसे बचाने के बेहतरीन उपाय

‘पैसा बचाना’ लंबे समय से चल रहा एक रिवाज है। पैसे बचाने के बेहतरीन उपाय हम कर सकते है।

अपने पिताजी, दादाजी अलग-अलग तरीकों से पैसे बचाते थे और संपत्ति को अच्छे से बढ़ाते थे।

माँ और दादी भी स्मार्ट सेविंग करती थी।

अगर आप रसोई घर की तलाशी लेंगे तो हजारों रुपये मिलेंगे!

इस प्रकार से पैसों को साईड में निकालकर रखना बहोत ही समझदारी वाला काम था।

क्योंकि यही पैसे मुश्किल समय में बहोत ही काम आते थे।

हम भी कुछ पैसे बचाते हैं.. पैसा पैसा जोड़ते हैं।

लेकिन क्या वर्तमान युग में इस प्रकार से पैसे को जोड़ने की यह कला काम करती है?

इसका उपयोग छोटे मोटे काम के लिए होता है।

लेकिन यह अपनी आज की जरुरत से कम ही है।

इसका मतलब है कि आपको थोड़े अलग तरीके से पैसों की मात्रा बढ़ाने में सक्षम होना चाहिए।

लेकिन पैसा जुटाना निश्चित रूप से आसान बात नहीं है।

अचानक एक लॉटरी लग जाए और हम अमीर हो जाए ऐसा नहीं है।

आप तुरंत अमीर नहीं होंगे.. लेकिन हम-आप कुछ बातों पर ध्यान दे तो निश्चित रूप से पैसों को बढ़ा सकते हैं।

कुछ समय लें और लेख में आगे बताएं छोटे-छोटे कदम बढ़ाते रहें..

समय के साथ आप अपनी बचत (Saving) को देखकर आश्चर्यचकित हो जाएंगे।

इसके लिए आपको क्या करना होगा?

आपको कुछ स्मार्ट आदतों को अपनाना होगा पैसे बचाने और बढ़ाने के लिए..

ये आदतें आपको भविष्य में पैसे की टेंशन से मुक्त दे सकती हैं। तो चलो शुरू करते है..

१) चिल्लर को जमा करना पुराना हुआ, अब कम से कम एक सौ दो सौ के बारे में सोचो:

कहीं 2 – 4 % की छूट, कहीं 5 – 10 रुपये की छूट होती है।

हम हमेशा ऐसे ऑफर्स के पिछे जाते हैं। हमें लगता है कि वही बारह से पंद्रह रुपये बचेंगे।

लेकिन ये निश्चित रूप से बहुत बड़ी बचत नहीं हैं।

आप कितना बचा पाएंगे? साल में एक या दो हजार..

हमें यह पता करना चाहिए कि हर एक महीने में कौन सा खर्च पूरी तरह से बंद किया जा सकता है।

या फिर, कम से कम एक महिना छोड़कर खर्च किया जा सकता है।

इससे आपकी हर महीने सैकड़ों रुपए की बचत होगी।

आप अनावश्यक खर्च को बंद कर सकते हैं।

जैसे कि भले ही आपके पास कार हो लेकिन ऑफिस को बस से जाएं, नहीं तो कार पूल करें।

आपकी 2 से 5 हजार की मासिक पेट्रोल की बचत निश्चित रूप से होगी।

ऑनलाइन खरीदारी करते समय, प्राइस ‘लोअर टू हायर’ का विकल्प सेट करके खरीदें।

आपको समज आयेगा कि अच्छी ऑफर कौनसी है, इससे अनावश्यक पैसे खर्च नहीं होंगे।

ऐसे ही चिल्लर बचाने के बदले सैकड़ों, हजारों पैसे बचाने के आयडिया का इस्तेमाल करें..!

लैपटॉप, मोबाइल या अन्य ऐसे महत्वपूर्ण और आवश्यक सामान खरेदी करते समय ऑफ़र पर ध्यान दें। बहोत सी बैंक ऑनलाइन शाॅपिंग के लिए अच्छे ऑफर देती हैं।

२) कुछ बहुत बड़ा प्राप्त करना है, तो थोडा समय लिजिए:

जल्दबाजी आपको विनाश के द्वार तक ले जाती है, यह कहावत पैसे के लेन-देन में भी सही है।

जल्दबाजी में लिए गए निर्णय से आप प्राॅब्लैम में आते हैं।

वैसेही जल्दबाजी में किए गए आर्थिक व्यवहार भी आपको मुश्किलों में डालते हैं।

इंसान को बचपन से एक आदत होती है।

वो जो भी चीजें देखता है, उसे वो चाहिए होती है।

बड़े होने पर भी यह आदत आसानी से दूर नहीं जाती है।

ऐसी बहुत सी चीजें हम देखते ही हमारा लेने का मन करता हैं।

वह चीजें कई बार हम खरिदते हैं।

उदाहरण के लिए, आपने 5 वर्षों तक अपने टीवी का उपयोग किया है। विंडो शॉपिंग करते करते आपको स्मार्ट टीवी दिखता हैं। उसकी कीमत भी बहुत हैं।

हमें लगता हैं कि हमारा टीवी पुराना है और हमें एक नया टीवी खरीदना चाहिए।

क्योंकि हमें दिखता हैं अपनी बिल्डिंग में हर किसी के दीवार पर महंगे टीवी हैं।

एक्सचेंज ऑफर, डिस्काउंट ऑफर और कई अन्य चीजें आपको एक नए स्मार्ट टीवी की लेने के लिए मौका देगी। लेकिन यह समय होता है खुद को थोड़ा रोकने का..

जरा सोचिए.. आप टीवी क्यों बदलना चाहते हैं?

क्या आपका टीवी वाकई पुराना हो गया है ??

अगर जवाब हाँ है, तो बेशक आप नया टीवी खरीदने के बारे में सोच सकते हैं।

लेकिन अगर जवाब नहीं है तो, आपको सोचना चाहिए कि हमें नए टीवी की ज़रूरत क्यों है?

आपको लगता होगा कि लोग आप पर हंसते हैं।

लेकिन क्या वो एक नया टीवी खरीदने के लिए पैसे देंगे? नहीं ना!

थोड़ी समझदारी के साथ चीजों पर पैसा खर्च करने की आदत डालें।

जरूरत और बर्बादी के बीच एक छोटी रेखा को समझे।

३) अपनी अभी की लाईफस्टाइल से थोड़ा सी / एक कदम नीचे की जीवनशैली जीना शुरू करें:

यह आपको बहुत मुश्किल लगता है ना?

लेकिन यह उतना मुश्किल नहीं है जितना कि लगता है।

बचपन में हमें पॉकेट मनी मिलती थी। हम वो पैसे पुरे महीने भर के लिए बचाकर खर्च करते थे। बस वैसे ही..

जैसे कि बचपन में २५ रूपये का एक अच्छी इंक वाला पेन मिलता था।

लेकिन हम वो पेन नहीं खरिदते थे। क्योंकि अपनी सारी पॉकेट मनी इस पर खर्च नहीं करना चाहते थे।

हम १० रुपये का एक टिकाऊ पेन लेते थे। क्योंकि बचे हुए १५ रुपये से हम और कुछ चीज खरिद सकते थे।

तो अब ऐसा क्यों नहीं करते? महंगे की तुलना में सस्ता लेकिन अधिक टिकाऊ क्यो नहीं खरिदते।

हमें २ लोगों के लिए ३ बेडरूम और हॉल, किचन वाला फ्लैट किराए पर लेने की क्या जरूरत है ??

आपको लगता होगा कि मेहमान घर आएंगे तो उनके लिए।

लेकिन मेहमान कभी-कभी आएंगे, वो भी 4-5 दिनों के लिए।

अगर आप 1 बेडरूम, हॉल, किचन के साथ फ्लैट लेते हैं, तो आपका किराया बच जाएगा।

एक बड़ा घर, एक बड़ी कार, बड़ी महंगी चीजें खरीदने की क्या जरूरत है?

यदि आप इसे अपनी आवश्यकताओं के अनुसार लेते हैं, तो आपका बचा हुआ पैसा आपके बैंक में सेफ रहेगा।

दुनिया के साथ बदलना आवश्यक है, लेकिन इस पर अनावश्यक खर्च कितना करेंगे? इस पर थोड़ा अंकुश लगाने की जरूरत है।

४) स्मार्ट तरीके से खरीदारी करना भी सीखें:

शॉपिंग करना एक बड़ा काम है।

क्योंकि फूड खरीदारी आपके महीने के बजट का एक बड़ा हिस्सा खा जाती है।

और यहाँ आपको सावधान रहना होगा। अन्यथा, आपका सारा बजट इसमें ही खत्म हो सकता हैं।

यह सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण मुद्दा है। आइए देखें कि इस चतुराई से कैसे देखभाल करें

A) घर से निकलने से पहले अपने बजट के अनुसार एक लिस्ट बनाएं:

सुपरमार्केट में सामान तो भर भरके होता है। यह आपको ज्यादा खरिदने पर मजबूर करता है।

लेकिन हमें यहां बहोत सक्ति से पेश आना हैं। जितना चाहिए उतना ही खरिदना चाहिए।

माॅल में शाॅपिंग करने के लिए हर बार बच्चों को लेकर नहीं जाना है।

नहीं तो सामान से आपकी ट्राॅली कब भरेगी आपको पता भी नहीं चलेगा।

और इन बातों पर आप ध्यान नहीं देते हैं, तो आपका पैसा जरूरत से ज्यादा सामान खरेदी पर बर्बाद होगा।

B) शाॅपिंग के लिए जाने से पहले खा पिकर जाएं।

इसके पीछे एक कारण है।

यह मानव स्वभाव है कि अगर सामने चटपटा कुछ दिखता है, तो आपको इसे तुरंत खाने का मन करता है।

खरीदारी करते समय विभिन्न खाद्य पदार्थों के पैकेट हमेशा दिखाई देते हैं।

यदि हम भूखे होते हैं, तो हम घर जाने पर इसे खाएंगे यह सोचकर पुरा पैकेट को उठाते हैं।

इसमे से आधे से ज्यादा फूड पौष्टिक भी नहीं होता है।

लेकिन अगर पेट भरा हुआ है, तो ऐसी चीजों पर ध्यान नहीं जाता है। और हम एक अनावश्यक खर्च किए बिना, जितनी चाहें उतनी वस्तुओं के साथ घर आते हैं।

५) लंबे समय की जिम सदस्यता रद्द करें:

जिम की लंबे समय की सदस्यता सस्ती होने के कारण हम एक साल के लिए लेते है।

लेकिन क्या हम अगले ३६५ दिन जिम जाते हैं ..??

इस बात का विचार कर लेंना जरूरी है।

इसके बजाय, उस महीने का भुगतान करें जिस महीने में आप जाने का फैसला करते हैं।

अन्यथा इंटरनेट पर बहुत सारे मुफ्त वीडियो हैं जो आपको व्यायाम करने और वजन कम करने में मदद करेंगे। उनका उपयोग करें और फिट रहे।

व्यायाम करने के लिए योग सबसे अच्छा विकल्प है। इससे व्यायाम भी होगा और अनावश्यक पैसा भी खर्च नहीं होगा।

जब आप सच्चे मन से जिम जाने का सोचते हैं। तभी जिम के चक्कर में पड़े अन्यथा नहीं।

आप देखेंगे इन छोटे ट्रिक्स से बड़ा फर्क पड़ता है। बच्चे छोटे-छोटे कदम उठाकर ही बड़े कदम उठाना सीखते हैं।

उसी तरह, ये छोटे कदम भविष्य में आपकी बहुत मदद करेंगे।

पैसा कमाना बहुत मुश्किल है, उसे खर्च करना नहीं .. तो चलिए होशियार रहें और अपना पैसा बढ़ाएँ .. !!

अपने दोस्तों में लेख शेअर करें मनाचेTalks हिन्दी आपके लिए ऐसी कई महत्त्वपूर्ण जानकारियाँ लेके आ रहा है। हमसे जुड़ने के लिए हमारा फेसबुक पेज मनाचेTalks हिन्दी को लाइक करिए और हमसे व्हाट्स ऐप पे जुड़े रहने के लिए यहाँ क्लिक करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *